UP में अब सांस भी सरकार से पूछ कर लेना होगा, ऑक्सीजन सिलेंडर पर नई गाइडलाइन जारी

नई दिल्ली (असरार अहमद ) पूरे देश में कोरोना से हाहाकार मचा हुआ है हर दिन कोरोना के नए रिकॉर्ड बन रहे है लोग अपनों को मरते हुए अपनी आँखों से देख रहे हैं किसी को एम्बुलेंस नहीं मिल रही है तो कोई अस्पताल में बेड के लिए परेशान है न जाने कितने ऑक्सीजन न पाने की वजह से दम तोड़ दे रहे हैं स्वास्थ सेवाएं चरमरा गईं हैं पूरे देश में ऑक्सीजन की बहुत कमी है.अब उत्तर प्रदेश सरकार ने ऑक्सीजन सिलेंडर को लेकर नई गाइडलाइन जारी कर दी है.अब प्रदेश के लोगों को सरकार से पूछ कर साँस लेना होगा राज्य सरकार ने अब निजी तौर पर ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदने पर रोक लगा दी है. ऑक्सीजन की किल्लत को देखते हुए राज्य सरकार ने ये नई गाइडलाइन जारी की है. इसमें कहा गया है कि बहुत गंभीर स्थिति को छोड़कर किसी को भी निजी तौर पर ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं की जाएगी. यह सिर्फ संस्था को ही दी जाएगी. गंभीर स्थिति में निजी तौर ऑक्सीजन देना भी पड़े तो संबंधित व्यक्ति से डॉक्टर का प्रिस्क्रिप्शन और आधार कार्ड लेकर डिटेल नोट करना होगा. इसके अलावा ऑक्सीजन रीफिलिंग सेंटर पर सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम करने के भी निर्देश जारी किए गए हैं

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की हालत बहुत ही ख़राब है हर तरफ एम्बुलेंस और मरीजों की भीड़ है बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर राजधानी लखनऊ समेत पूरे उत्तर प्रदेश पर भारी पड़ रही है. राज्य में अभी 2.42 लाख से ज्यादा ऐसे मरीज हैं, जिनका इलाज चल रहा है. बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 33,106 संक्रमित मिले और 187 की मौत हुई. इसके बाद मौत का आंकड़ा 10 हजार को पार कर गया है. यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी भी संक्रमित हो गई हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही पॉजिटिव हो चुके हैं.
सरकार आइसोलेशन में है जनता सड़कों पर मर रही है जनता की कोई सुनने वाला नहीं है

loading...