मुख्यमंत्री गहलोत ने प्रदेश के हालात पर वीडियो कांफ्रेंस से समीक्षा करके दिशा निर्देश दिये।

।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।
मुख्यमंत्री शुक्रवार देर रात को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रदेश में ऑक्सीजन, टैंकर, ऑक्सीजन कॉन्सनट्रेटर, रेमडेसिविर, टोसिलीजुमेब दवा सहित अन्य संसाधनों की उपलब्धता को लेकर गहन समीक्षा की। अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे केंद्र सरकार से राज्य के लिए एक्टिव केसों की संख्या के अनुरूप अतिरिक्त ऑक्सीजन एवं दवाओं का आवंटन कराने के लिए निरंतर सम्पर्क बनाए रखें और अपना पक्ष मजबूती के साथ रखें। साथ ही अन्य देशों से भी ये संसाधन जुटाने के लिए मिशन मोड में काम करें। हर व्यक्ति की जीवन रक्षा को ध्यान में रखते हुए ऑक्सीजन और दवाओं की आपूर्ति को लेकर हमारे प्रयासों में कोई कमी नहीं रहे। संकट के इस समय में लाइफ सेविंग ही हमारा एक मात्र ध्येय है।
मुख्य सचिव सहित कोविड प्रबंधन में लगे नोडल अधिकारियों से संसाधनों की उपलब्धता को लेकर पूरा फीडबैक मुख्यमंत्री ने लिया तथा प्रयास और तेज करने के निर्देश दिए। जिस तरह से संक्रमण और मृत्यु की दर बढ़ रही है, हमें हर संभावित स्थिति के लिए अभी से तैयारी रखनी होगी, तभी जाकर हम प्रदेशवासियों की जीवन रक्षा के संकल्प में कामयाब हो पाएंगे। बढ़ते हुए संक्रमण के कारण यह अत्यधिक सतर्कता बनाए रखने का समय है। इसके लिए महामारी रेड अलर्ट-जन अनुशासन पखवाड़े की सख्ती से पालना कराएं।
संक्रमण की गति पर अंकुश लगाने के लिए अनुमत गतिविधियों के अतिरिक्त लोगों के मूवमेंट को कड़ाई से रोकने के निर्देश दिए। कंटेनमेंट जोन एवं होम आईसोलेशन की सख्ती से पालना के साथ ही संक्रमण की रोकथाम के तमाम उपायों को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए।
चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के लिए शनिवार से प्रारम्भ होने वाले वैक्सीनेशन कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन की उपलब्धता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इस दिशा में केंद्र सरकार से लगातार समन्वय किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन, ऑक्सीजन एवं अन्य संसाधनों की उपलब्धता के लिए चिकित्सा विभाग युद्ध स्तर पर प्रयास कर रहा है।
मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने जामनगर से पूर्व मे आवंटित 185 मैट्रिक टन ऑक्सीजन का बैकलॉग प्राप्त करने के लिए किए जा रहे प्रयासों तथा राउरकेला एवं पूर्वी राज्यों से ऑक्सीजन के आवंटन की स्थिति में रेलवे एवं वायु सेना के साथ किए जा रहे सम्पर्क के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विदेशों से ऑक्सीजन कॉन्सनट्रेटर एवं अन्य उपकरण की खरीद के लिए गठित समिति निरंतर भारतीय दूतावासों तथा विदेशी कम्पनियों से सम्पर्क कर रही है।
अतिरिक्त मुख्य सचिव खान एवं पेट्रोलियम सुबोध अग्रवाल ने बताया कि ऑक्सीजन कॉन्सनटेªटर की तत्काल खरीद के लिए चीन, यूएसए, यूके, जापान, रूस आदि देशों में सम्पर्क स्थापित किया गया है। जल्द ही इन देशों से कॉन्सनटेªटर खरीद की निर्णायक स्थिति बन जाएगी।
केंद्र सरकार के साथ समन्वय देख रहे अतिरिक्त मुख्य सचिव सुधांश पंत ने बताया कि विदेशों से डोनेशन के माध्यम से प्राप्त रेमडेसिविर में से राजस्थान को उसके एक्टिव केसेज के अनुपात में लगभग 9600 डोज का कोटा आवंटित किया गया है, जो जल्द मिलने की उम्मीद है। साथ ही राज्य सरकार के लगातार प्रयासों से प्रदेश को टोसिलीजुमेब की 340 डोज भी अतिरिक्त आवंटित करने पर भी सहमति व्यक्त की है।
प्रमुख शासन सचिव गृह अभय कुमार ने 3 मई से 17 मई तक लागू होने वाले महामारी रेड अलर्ट जन अनुशासन पखवाडे़ की नई गाइडलाइन के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस गाइडलाइन में आवागमन, विवाह एवं अनुमत गतिविधियों में और सख्ती की गई है।
चिकित्सा सचिव सिद्धार्थ महाजन ने बताया कि 8 हजार ऑक्सीजन कॉन्सनटेªटर की खरीद के लिए आदेश जारी कर दिए गए हैं। साथ ही भारत सरकार से इनके आवंटन के लिए भी निरंतर समन्वय किया जा रहा है। उद्योग सचिव आशुतोष एटी ने ऑक्सीजन परिवहन को लेकर किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराया। राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त श्री धीरज श्रीवास्तव ने संकट के इस समय में प्रवासी राजस्थानियों से मिल रहे सहयोग के बारे में जानकारी दी। आरयूएचएस के कुलपति डॉ. राजाबाबू पंवार, आरयूएचएस के डॉ. अजीत सिंह ने कोविड प्रबंधन के बारे में बताया। पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर, प्रमुख शासन सचिव वित्त अखिल अरोरा सहित कोविड प्रबंधन से जुडे़ अन्य अधिकारी भी वीसी से जुडे़।

loading...