बीजेपी को हराने की तैयारी, कांग्रेस ने 6 दलों के साथ किया गठबंधन, असम के लिए महागठबंधन बहुत जरूरी: AIDUF

रपूण बोरा ने कहा कि कांग्रेस हमेशा से देश के हित में सांप्रदायिक ताकतों को बाहर निकालने कि कोशिश करती रही है । लोग अब भाजपा को वोट देने के लिए तैयार नहीं हैं।
गुवाहाटी: असम में अगला विधानसभा चुनाव अप्रैल-मई में होने की उम्मीद है और इससे पहले राज्य में राजनीतिक टकरावों की एक श्रृंखला शुरू हो गई है। कांग्रेस ने मंगलवार को चुनावों में सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए पांच दलों के साथ गठबंधन की घोषणा की है ।

महागठबंधन की घोषणा करते हुए, असम कांग्रेस के अध्यक्ष रपूण बोरा ने कहा कि उनकी पार्टी ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF), तीन वामपंथी दल, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी-मार्कसी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी – माले और आंचालिक गन मोर्चा (एजीएम) के साथ गठबंधन में चुनावी मैदान में उतरेगी।

उन्होंने कहा कि भाजपा को राज्य से बाहर निकालने के लिए एक महागठबंधन में क्षेत्रीय दलों का स्वागत है । उन्होंने आगे कहा, ‘कांग्रेस हमेशा से देश के हित में सांप्रदायिक ताकतों को बाहर निकालने का काम करती आई है। लोग अब भाजपा को वोट देने के लिए तैयार नहीं हैं क्योंकि इसके खराब शासन ने लोगों के जीवन को मुश्किल में डाल दिया है और लोग बहुत निराश हैं।

एआईयूडीएफ के महासचिव अमीनुल इस्लाम ने कहा कि असम के लिए महागठबंधन बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करेगा। आंचालिक गन मोर्चा (एजीएम) के अध्यक्ष और राज्यसभा के सदस्य अजीत कुमार भुइयां ने गठबंधन के गठन को एक ऐतिहासिक क्षण बताया। उन्होंने कहा कि यह गठबंधन निश्चित रूप से भाजपा को हराने में सफल होगा।

याद रहे कि हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, कांग्रेस महासचिव मोकल वासनिक और बिहार विधानसभा सदस्य शकील अहमद खान को असम में प्रचार करने का जिम्मा सौंपा है। बघेल और अन्य कांग्रेस नेताओं ने असम में कई दौर की वार्ता के बाद एक महागठबंधन की घोषणा की है।

loading...